सँयुक्त किसान मोर्चा मध्यप्रदेश ऑनलाइन बैठक संपन्न - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे औरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें....भारत के समस्‍त प्रदेशों में स्‍टेट ब्‍यूरों, संभाग ब्‍यूरों , जिला ब्‍यूरों, तहसील ब्‍यूरों और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

सँयुक्त किसान मोर्चा मध्यप्रदेश ऑनलाइन बैठक संपन्न




सिवनी से सुधीर बघेल व जुनैद सानी की रिपोर्ट -


सँयुक्त किसान मोर्चा मध्यप्रदेश ऑनलाइन बैठक संपन्न

26 जून को 'खेती बचाओ- लोकतंत्र बचाओ आंदोलन

राजभवन भोपाल सहित जिला कलेक्टर परिसर में प्रदर्शन ज्ञापन


सिवनी/ संयुक्त किसान मोर्चा, मध्यप्रदेश की आज ऑन लाइन बैठक का आयोजन पूर्व विधायक डॉ सुनीलम के नेतृव में संपन्न हुई जिसकी बैठक का संचालन किसान जागृति संगठन के अध्यक्ष इरफान जाफ़री ने किया।

बैठक में मध्यप्रदेश के लगभग तीन दर्जन जिलों से सक्रिय किसान नेता संम्मलित हुए आज की बैठक में सिवनी जिले के किसान नेताओं में प्रमुख रूप से किसान संघर्ष समिति के प्रदेश सचिव डॉ राजकुमार सनोडिया जिला अध्यक्ष रामकुमार सनोडिया उन्नतशील किसान रघुवीर सिंह सनोडिया , ओबीसी महासभा के मोनू उर्फ महेंद्र राय,लखनादौन विधान सभा के आदिवासी किसान नेता करण सिंह ,संयुक्त किसान मोर्चे के मीडिया प्रभारी राजेश पटेल व अन्य नेता शामिल हुए व कार्यक्रम से संबंधित अपने सुझाव रखे। राजेश पटेल द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया के सँयुक्त किसान मोर्चा किसान आंदोलन के राष्ट्रीय आव्हान पर देश भर में सभी आमजन जिसमें किसान मजदूर व्यापारी युवा बेरोजगार जिला मुख्यालय के कलेक्ट्रेड सहित राज्यों की राजधानियों के सभी राजभवनों के समक्ष आपातकाल के 46 वर्ष पूरे होने तथा वर्तमान किसान आंदोलन के 7 माह पूरे होने के अवसर पर 'खेती बचाओ - लोकतंत्र बचाओ आंदोलन' करने का निर्णय किया गया है। किसान सात माह से जिस किसान बिल की वापसी की माँग की लड़ाई लड़ रहे है वह हर एक वर्ग के लिए फाँसी का फंदा बनते जा रहा है जिसका प्रमाण खाद तेलों की साल भर में अंधाधुंध दुगुनी महँगाई है किसानों की लागत मूल्य नहीं मिलने से बाजार के व्यापारियों का धंधा सुस्त हो गया है कृषि प्रधान देश होने से देश की अर्थव्यवस्था कृषि आधारित है जिसे मोदी सरकार उधोगपति पूँजी पति मित्रों को कांट्रैक्ट खेती के माध्यम से किसानों से छीनकर असंवैधानिक तरीके से देना चाहती है । 26 जून को किसान आंदोलन के समर्थन में तीन किसान विरोधी कानून रद्द करने, बिजली संशोधन बिल 2020 वापस लेने तथा सभी कृषि उत्पादों की लागत से डेढ़ गुना दाम पर न्यूनतम समर्थन मूल्य ग्यारंटी कानून बनाये जाने की मांग को लेकर प्रदर्शन करते हुए महामहिम राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौपा जाएगा।

भोपाल राजभवन के समक्ष एक दिवसीय धरना देने तथा राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने का निर्णय लिया गया है। ऑनलाइन बैठक में सभी नागरिक संगठनों,किसान संगठनों, महिला संगठनों,मजदूर संगठनों से अपील की है कि 26 जून को प्रदेश भर में होने वाले आंदोलन में बढ़ चढ़कर हिस्सा लें।

बैठक में किसानों ने बताया कि प्रदेश में मानसून आ गया लेकिन अभी तक किसानों को खाद, बीज पर्याप्त मात्रा में सोसायटी यों से नहीं मिला है। जिसके चलते किसानों को बाजार से उच्च दामों पर तथा निम्न गुणवत्ता का खाद बीज लेना पड़ रहा है।विगत वर्ष फसल खराब होने के बावजूद प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ नहीं मिला ना ही सरकार द्वारा मुआवजा दिया गया। किसानों ने यह भी कहा कि सरकार एमएसपी वृद्धि का ढिंढोरा पिट रही है लेकिन फसलों की जो एमएसपी तय की गई है उस पर भी मंडियों में खरीद नही होने से किसानों को काफी नुकसान सहना पड़ रहा है। लॉकडाउन में मंडियां बंद होने पर व्यापारियों को अनाज बेचना पड़ा। सिवनी सहित रायसेन ,इंदौर,धामनोद, सांची, खरगोन के किसानों से करोड़ों रूपये की उपज लेकर व्यापारी फरार हो गए है। सिवनी के व्यापारी को जेल में डालकर किसानों को कोई सहयोग नहीं पहुँचाया गया ।4 जून से ग्रीष्मकालीन मूंग की खरीद शुरू करने को लेकर मध्यप्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल की घोषणा के बावजूद अभी तक खरीदी शुरू नहीं हुई है।



छिंदवाड़ा में अडानी थर्मल पावर प्लांट बनाना चाहता है जिसका किसान विरोध कर रहे है क्योंकि 24 गांव के लोगों का पीने का पानी जहरीला हो जाएगा।

ऑन लाइन बैठक में मध्यप्रदेश के प्रमुख किसान नेता बादल सरोज (सचिव,अखिल भारतीय किसान सभा), डॉ सुनीलम (अध्यक्ष,किसान संघर्ष समिति), इरफान जाफरी, (किसान जागृति संगठन), प्रहलाद दास बैरागी (अखिल भारतीय किसान सभा-अजय भवन), बाबू सिंह राजपूत, (क्रांतिकारी किसान मजदूर संगठन-भोपाल),जसविंदर सिंह (अखिल भारतीय किसान सभा), इंद्रजीतसिंह (शहीद राघवेंद्र सिंह किसान संघर्ष समिति), एड आराधना भार्गव (उपाध्यक्ष, किसान संघर्ष समिति), संदीप ठाकुर (भारतीय किसान श्रमिक जनशक्ति युनियन), कॉ. उर्मिला, कॉ फाहिम (अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा), माधुरी बहन (जागृत आदिवासी दलित संगठन,बड़वानी ) राजकुमार सिन्हा (बर्गी बांध विस्थापित संघ), बाबूलाल पटेल,सुबोध कुमार शर्मा (भारतीय किसान युनियन,नरसिंहपुर), बबलू जाधव,सोनू शर्मा, (भारतीय किसान एवं मजदूर सेना), ललित कुमार (राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिल भारतीय ओबीसी महासभा भोपाल), दिलीप शर्मा (किसान क्रांति, छतरपुर), प्रदीप आरबी, मनीष श्रीवास्तव ( एआई केकेएमएस), प्रहलाद सिंह हाडा (सुजालपुर), मुकेश भगोरिया (नर्मदा बचाओ आंदोलन), अशोक तिवारी (मुरैना), योगेश तिवारी (हरदा), अखिलेश यादव शत्रुघ्न यादव, (ग्वालियर)

श्रीकांत वैष्णव (छिंदवाड़ा), नवनीत मंडलोई (अलीराजपुर), अभिषेक शर्मा , नितिन,घनश्याम नागवंशी , राहुल ठाकुर (भोपाल),दीपक (बालाघाट) एवं अन्य संगठनों के तीन दर्जन से अधिक पदाधिकारियों ने ऑनलाइन बैठक को संबोधित करते हुए अपने सुझाव व कार्यक्रम की जानकारी दी।

सँयुक्त किसान मोर्चा व आज बैठक में किसान नेताओं ने सभी वर्ग के आम नागरिक गण किसान सहित सम्बंधित किसान हितैषी संगठनों से अपील की है कि अपनी सुविधानुसार अधिक से अधिक संख्या जो लोग राजभवन भोपाल नहीं पहुँच सकते वे जिला मुख्यालयों में उपस्थिति दर्ज कराए व आंदोलन को मजबूती प्रदाय करे गाँव मोहल्ले गलियों तक कृषि बिल की खामियों को बताए ओर भाजपा द्वारा किये जा रहे झूठे प्रचार प्रसार से गुमराह ना हो।