घर की जिम्मेदारी से ज्यादा अपनी ड्यूटी को महत्व देते हुए गभर्वती महिलाओं का कराया सुरक्षित प्रसव - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे औरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें....भारत के समस्‍त प्रदेशों में स्‍टेट ब्‍यूरों, संभाग ब्‍यूरों , जिला ब्‍यूरों, तहसील ब्‍यूरों और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

घर की जिम्मेदारी से ज्यादा अपनी ड्यूटी को महत्व देते हुए गभर्वती महिलाओं का कराया सुरक्षित प्रसव

सिवनी से उमैर कुरैशी की रिपोर्ट -

सिस्टर श्रीमति सी.खान


सिस्टर इंचार्ज श्रीमति सी.खान जो विगत 30 वर्षो से जिला चिकित्सालय सिवनी के मेटरनिटी वार्ड में कार्यरत है। कोविड महामारी के दौरान सिस्टर इंचार्ज सी. खान के द्वारा माह अप्रैल एवं मई में कुल 634 गर्भवती महिलाओं की नॉर्मल डिलेवरी करवाई गई जिसमें 10 कोविड पॉजिटिव गर्भवती महिलाएं भी शामिल थी।




सिस्टर इंचार्ज सी.खान ने बताया कि कोविड महामारी के अधिक प्रकोप के समय हमारे लिये डिलीवरी करवाना एक चुनौतीपूर्ण कार्य था जिसमें स्वयं एवं अपने परिवार को साथ ही पेंशेंट के रिश्तेदारो को कोविड से बचाते हुए कार्य करना बहुत मुश्किल लग रहा था। किंतु मैने चिकित्सक स्टॉफ एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के साथ आपस में सामंजस्य बनाकर मरीजों को अच्छी सेवाएं देने का भरसक प्रयास किया गया। कोविड पॉजिटिव मरीजों की डिलीवरी के लिये ट्रामा यूनिट में एक अलग सेटअप किया गया जिसकी सभी व्यवस्थाएं मेरे द्वारा किया गया जो ड्यूटी से काफी अलग था।




इस दौरान सिविल सर्जन डॉ विनोद नावकर व स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ राजेश्वरी कुशराम का उचित मार्गदर्शन प्राप्त हुआ। जिससे मुझे कार्य करने मे आसानी हुई। कोविड पॉजिटिव पेंशेंट की डिलेवरी के बाद पोस्ट ऑपरेटिव वार्ड में एक अलग से रूम दिया गया जहां पर नार्मल डिलीवरी एवं सीजर वाले पेंशेंट को रखा जाता था। जैसे ही कोई पेंशेंट कोविड पॉजिटिव आती थी तो तुरंत लेबर रूम स्टॉफ के द्वारा पेंशेंट को क्लीनिकली चेकअप के बाद ड्यूटीरत डॉक्टकर को सूचित किया जाता था। एवं उस पेंशेंट को नार्मल डिलीवरी या सीजर के तुरंत बाद मेटरनिटी वार्ड एवं लेबर रूम को तुरंत फ्यूमिगेट करवाया जाता था। ताकि कोविड का कोई संक्रमण न फैले। उस परिस्थिति में मैने ड्यूटी से घर जाने का टाईम भी नही देखा। कई बार ऐसी दिक्कत आती थी कि खाना तक नही खाया करते थे ओर खाना घर वापस जाया करता था। उस समय कोविड को देखते हुए हमारे लिये खाना से ज्यादा जरूरी पेंशेंट की जान बचाना होता था।




इस तरह से मैने कोविड महामारी के दौरान अपना कार्य पूर्ण लगन एवं निष्ठा के साथ किया। उस समय घर में मेरी बहु गर्भवती थी उसकी देखभाल भी मुझे ही करनी पड़ती थी। फिर भी मैने घर की जिम्मेदारी से ज्यादा अपनी ड्यूटी को महत्व दिया क्योकि गभर्वती माताओं का सुरक्षित प्रसव हो एवं बच्चा भी सुरक्षित रहे। इस कोविड महामारी के दौरान मुझे कार्य करने का मौका मिला जिसका मुझे गर्व है।