केसली में कलेक्टर ने फीवर क्लिनिक, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, वैक्सीनेशन सेंटर ,कोविड केयर सेंटर का किया निरीक्षण - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे औरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें....भारत के समस्‍त प्रदेशों में स्‍टेट ब्‍यूरों, संभाग ब्‍यूरों , जिला ब्‍यूरों, तहसील ब्‍यूरों और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

केसली में कलेक्टर ने फीवर क्लिनिक, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, वैक्सीनेशन सेंटर ,कोविड केयर सेंटर का किया निरीक्षण


सागर से पीयूष जैन की रिपोर्ट -

कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने पुलिस अधीक्षक श्री अतुल सिंह के साथ केसली विकासखंड में फीवर क्लिनिक , सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, वैक्सीनेशन सेंटर - शासकीय उत्कृष्ठ उच्चतर मध्य्मिक विद्यालय, एवम कोविड केयर सेंटर कस्तूरवा आवासीय विद्यालय केसली का निरीक्षण किया ।


निरीक्षण के दौरान जनपद पंचायत केसली की मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुश्री पूजा जैन, तहसीलदार, डॉक्टर सत्यम सोनी सहित अन्य अधिकारी डॉक्टर मौजूद थे। कलेक्टर श्री सिंह ने केसली के वैक्सीनेशन सेंटर का निरीक्षण करते हुए निर्देश दिए वैक्सीनेशन में फिजिकल डिस्टेंस का ध्यान रखा जावे व वैक्सीनेशन के उपरांत लगभग 30 मिनट तक वैक्सीनेशन कराने वाले व्यक्तियों को रोकने के लिए कहा। ट्रिपल सी में प्रतिदिन योग कराया जावे एवं काढ़ा वितरण भी किया जाए। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रतिदिन डॉक्टर एवं पैरामेडिकल स्टाफ उपस्थित रहकर कोरोना रोग से अन्यत्र आने वाले समस्त रोगों का इलाज करें।

वर्तमान में केसली में 50 बिस्तर का कोविड केयर सेंटर संचालित है जिसमें कोविड मरीज व कोरोना संदिग्ध मिला कर कुल 46 लोग भर्ती है। यहां सर्वे के दौरान बुखार सर्दी के लक्षण वाले चिन्हित नागरिकों की तत्काल सेम्पलिंग व मेडिसिन किट देने के निर्देश दिए। ट्रिपल सी में पर्याप्त मात्रा में दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। जिन लोगों का टेम्प्रेचर अधिक है व ऑक्सीजन लेविल 90 से कम है उन्हें तुरंत कोविड केयर सेंटर में भर्ती कराएं और उनका उपचार प्रारंभ करें । उन्होंने कहा कि यह हमारा प्रयास होना चाहिए कि अधिकतम लोगों को संस्थागत आइसोलेट करें। घर पर आइसोलेट रहने से कोरोना संक्रमण बढ़ने की आशंका बनी रहती है। एसडीपीओ स्तर के अधिकारी टीम बना कर प्रतिदिन आंगनबाडी व ऐएनएम कार्यकर्त्ता द्वारा किये जा रहें सर्वे की मॉनिटरिंग करें व स्वयं भी गाओं में जा कर सुपरविजन करें जिससे इफेक्टिव किल कोरोना सर्वे से कोरोना संक्रमण नियंत्रण को और प्रभावी बनाया जा सके।