रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी के मामले में जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ पूर्णिमा गाडरिया के बाद मंत्री तुलसी सिलावट का नाम - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे औरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें....भारत के समस्‍त प्रदेशों में स्‍टेट ब्‍यूरों, संभाग ब्‍यूरों , जिला ब्‍यूरों, तहसील ब्‍यूरों और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी के मामले में जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ पूर्णिमा गाडरिया के बाद मंत्री तुलसी सिलावट का नाम



(इंदौर से संतोष जैन की रिपोर्ट)


रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी के मामले में जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ पूर्णिमा गाडरिया के बाद मंत्री तुलसी सिलावट का नाम आ गया है



पुलिस द्वारा रिमांड पर लिए गए डॉ पूर्णिमा के ड्राइवर पुनीत अग्रवाल ने पत्रकारों को बताया है क्या मंत्री तुलसी सिलावट के यहां से ही पूरा काम चल रहा था। इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए उस आरक्षक और नगर सैनिक को सस्पेंड कर दिया है जो मौके पर मौजूद से और उन्होंने ना तो पुनीत अग्रवाल को बयान देने से रोका और ना ही मीडिया को।


इंदौर में कोर्ट पर पेशी के दौरान गिरफ्तार ड्राइवर पुनीत अग्रवाल ने बताया कि वह एवं गोविंद राजपूत दोनों इम्पेट्स ट्रेवल एजेंसी पर काम करते थे। गोविंद राजपूत, मंत्री तुलसी सिलावट की पत्नी के लिए आरक्षित कार का ड्राइवर है। पुनीत अग्रवाल ने बताया कि उसने गोविंद राजपूत से ₹14000 में इंजेक्शन खरीदे थे और पुलिस कर्मचारी ललित शर्मा को देने जा रहा था तब उसे गिरफ्तार किया गया। पुनीत अग्रवाल ने बताया कि उसने बीच में कोई मुनाफा नहीं कमाया है।


पुनीत अग्रवाल ने बताया कि उसने गोविंद राजपूत के माध्यम से कई लोगों की मदद की है। जिसे भी इंजेक्शन चाहिए होता था उसके डॉक्यूमेंट व्हाट्सएप पर मंगवा कर गोविंद राजपूत को भेज देता था। मरीज को सीधे अस्पताल में इंजेक्शन उपलब्ध करा दिए जाते थे। पुनीत अग्रवाल से जब पूछा गया कि उसके साथ ही ड्राइवर गोविंद राजपूत के पास इंजेक्शन कहां से आते थे तो उसने बताया कि गोविंद राजपूत मंत्री तुलसी सिलावट के यहां ड्राइवर है। सारा काम उन्हीं के यहां से चल रहा था। उसने कई लोगों को दिलवाए, मैं भी वहीं से लाया था।


समाचार लिखे जाने तक पुलिस ने ड्राइवर गोविंद राजपूत को राउंडअप नहीं किया है जबकि गिरफ्तार पुनीत अग्रवाल को रिमांड पर ले लिया गया है। पुलिस का कहना है कि गोविंद राजपूत से भी पूछताछ की जाएगी। मंत्री तुलसी सिलावट का कहना है कि इस मामले में निष्पक्ष जांच और विधिवत कार्रवाई होनी चाहिए। पता लगाया जाना चाहिए कि गोविंद राजपूत को इंजेक्शन कहां से मिल रहे थे।

विजय नगर पुलिस थाने के उस आरक्षक और नगर सैनिक को सस्पेंड कर दिया गया है जिनकी मौजूदगी में गिरफ्तार ड्राइवर पुनीत अग्रवाल ने मंत्री तुलसी सिलावट की पोल खोलने वाला बयान दिया था।