राष्ट्र निर्माण सेना, देश मे भाई चारा कायम कर राष्ट्र का पुनर्निर्माण करेगा - सूरज ब्रमहे - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे औरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें....भारत के समस्‍त प्रदेशों में स्‍टेट ब्‍यूरों, संभाग ब्‍यूरों , जिला ब्‍यूरों, तहसील ब्‍यूरों और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

राष्ट्र निर्माण सेना, देश मे भाई चारा कायम कर राष्ट्र का पुनर्निर्माण करेगा - सूरज ब्रमहे

जबलपुर मध्य प्रदेश से संतोष जैन की रिपोर्ट -

राष्ट्र निर्माण सेना, देश मे भाई चारा कायम कर राष्ट्र का पुनर्निर्माण करेगा - सूरज ब्रमहे
(हिन्दू,मुस्लिम, सिख, ईसाई में एकता स्थापित किया जायेगा)

राष्ट्र निर्माण सेना के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं मध्यप्रदेश प्रभारी सूरज ब्रम्हे ने बयान जारी कर बताया कि राष्ट्र निर्माण सेना का गठन किया जा चुका है। जिसकी प्रथम बैठक 24 अप्रैल 2021 को राष्ट्र निर्माण सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस. वी.पिल्लई (तमिलनाडु) की अध्यक्ष में की गई थी । जिसमे देश के हरेक प्रदेशों के पदाधिकारी उपस्तिथ थे। 24 अप्रैल को प्रथम बैठक लेने का उद्देश्य था कि 24 अप्रैल 1815 में देश की आजादी की पहली क्रांति की शुरुआत की गई थी। लगातार तीसरी बैठक राष्ट्र निर्माण सेना की हो चुकी है। बैठकों में राष्ट्र निर्माण सेना को मजबूत बनाने अहम निर्णय लिए गये हैं। लॉक डाउन समाप्त होने के पश्चात दिल्ली में देश भर के पदाधिकारियों की बैठक शीघ्र ली जाएगी। राष्ट्र निर्माण सेना के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सूरज ब्रम्हे ने बताया कि आज देश मे जितनी भी राजनीतिक पार्टियाँ हैं। सब के सब किसी ना किसी जाती और धर्म को लेकर सत्ता में काबिज होने का प्रयाश कर रही हैं। किन्तु राष्ट्र निर्माण सेना देश मे भाई चारा कायम कर हिंदू, मुस्लिम, सिख , ईसाई में एकता स्थापित कर राष्ट्र को शक्ति शाली बनायेगा। क्योंकि परिवार हो, समाज हो या राष्ट्र हो जहाँ एकता नही है वह हमेशा कमजोर रहता है। और इसी का फायदा पड़ोसी उठाने का काम करता है। हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई जिस दिन इस देश मे एक हो जायेगें उस दिन किसी पड़ोसी की हिम्मत नही होगी कि ओ हमारे देश की ओर आँख उठाकर भी नही देख सकेगें। आज इस देश मे धर्म के नाम पर एक-दूसरे का खून बहाने में लगे हुवे हैं। और ये सब राजनीतिक लाभ लेने के चलते हो रहा है। राष्ट्र निर्माण सेना ये खून - खराबे को बन्द कर देश मे शान्ति का माहौल कायम करेगा।राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सूरज ब्रम्हे ने देश वासियों से अपील की हैं कि राष्ट्र निर्माण सेना से जुड़कर राष्ट्र निर्माण सेना को मजबूत बनाकर राष्ट्र को एक मजबूत और शक्तिशाली राष्ट्र बनाइये। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सूरज ब्रम्हे ने चुनाव आयोग में पंजीकृत पदाधिकारियों की सूची जारी कर बताया कि तमिलनाडु से एस. वी.पिल्लई (राष्ट्रीय अध्यक्ष), मध्यप्रदेश से सूरज ब्रम्हे ( राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रभारी मध्यप्रदेश), उत्तर प्रदेश से अशोक वाजपेयी ( राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ), उत्तराखंड से डॉ. ज्योति श्रीवास्तव (राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ), हिमाचल प्रदेश से संजीव शर्मा ( राष्ट्रीय उपाध्यक्ष), आसाम प्रदेश

से सुजीत मिश्रा ( राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ), हरियाणा से नरेश ठाकुर (राष्ट्रीय उपाध्यक्ष), दिल्ली प्रदेश से डॉ. राकेश आर्य ( राष्ट्रीय महामंत्री ), दिल्ली प्रदेश से डॉ. विजेंद्र सिंह ( राष्ट्रीय महामंत्री ), दिल्ली प्रदेश से डॉ. चंद्रशेखर पांडे ( राष्ट्रीय महामंत्री ), के.के.वत्स राष्ट्रीय सचिव, सुनील चड्डा राष्ट्रीय सचिव, श्रीमती मंजुलिका राष्ट्रीय सचिव ( महाराष्ट्र), उमाकांत गिरी राष्ट्रीय सचिव, डबरा स्टील राष्ट्रीय सचिव, मोहसिन सिद्धकी राष्ट्रीय सचिव, हरियाणा प्रदेश से डॉ. रमन अग्रवाल (राष्ट्रीय प्रवक्ता), बिहार प्रदेश से अमित गुप्ता ( राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी), महेंद्र अग्रवाल ( राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष), पुड्डुचेरी से युवराज सिंह (प्रदेश प्रभारी), छतीसगढ़ से डोमर साहू (प्रदेश प्रभारी), दिल्ली से डॉ. बलवीर नागर (प्रदेश प्रभारी), हरियाणा से रणवीर सिंह संधु (प्रदेश प्रभारी), पंजाब से डॉ. मुलखराज लालका (प्रदेश प्रभारी), उत्तर प्रदेश से धर्मेन्द्र जायसवाल (प्रदेश प्रभारी), उत्तराखंड से पटेल उमेश कनौजिया , गुजरात से महेश पटेल, हरियाणा से हरीश पहलवान, बिहार से शैवाल तिवारी, आसाम से प्रांजल बरुआ, पंजाब से श्रीमती नीलम शर्मा, पंजाब से श्याम करवाल, आंध्र प्रदेश से नटेश कुमार, साथ ही कुछ प्रदेशों में प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की जा चुकी है। सूरज ब्रम्हे ने कहा कि देश जब कोरोना जैसे महामारी से जूझ रहा है। कई माताओं की गोद उजड़ गई, कई बहनों की मांगों सुनी हो गई, कई बच्चे अनाथ हो गए, कई बहनों के भाई इस दुनिया को छोड़कर चले गए और हमारे देश के नेताओं को सत्ता हासील करने की पड़ी थी। उसी समय हमें लगा कि हमारे देश के नेताओं को देश और देश की जनता से कोई सारोकार नही है। उन्हें तो सिर्फ सत्ता हासील करना ही उनका मकसद है। ये सब देखकर मन बहुत दुखी हुआ और उसी समय हमने सोचा कि एक नई पार्टी का गठन किया जाये। और हमने राष्ट्र निर्माण सेना नाम से राजनीतिक पार्टी का गठन कर लिया गया है । राष्ट्र निर्माण सेना देश और देश की जनता के हित मे सोचेगा। जिससे भारत देश पूरे विश्व मे एक शक्ति शाली देश बन कर पूरी दुनिया के सामने आयेगा। राष्ट्र निर्माण सेना आगामी होने वाले चुनाव में अपने विचार धारा वाली पार्टी से गठबंधन कर चुनाव मैदान में उतरेगी या फिर अपने बलबूते पर पूरे देश मे अपने उम्मीदवार को चुनाव मैदान में उतरेगी। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सूरज ब्रम्हे ने कहा कि राष्ट्र निर्माण सेना उन योग्य और जन सेवकों को चुनाव मैदान में उतारेगी जिन्हें किसी भी राजनीतिक पार्टी ने सम्मान नही दी उन्हें राष्ट्र निर्माण सेना सम्मान देते हुवे चुनाव मैदान में उतारकर ऐसे योग्य और जनसेवकों को देश की कमान सौपेगी। क्योंकि राष्ट्र निर्माण सेना अंधेरे में उजाला करने निकला है।