गाय के गोबर से बना गौमय हवन कुंड आत्मनिर्भर हो रही स्व सहायता समूह की महिलाएं - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे औरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें....भारत के समस्‍त प्रदेशों में स्‍टेट ब्‍यूरों, संभाग ब्‍यूरों , जिला ब्‍यूरों, तहसील ब्‍यूरों और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

गाय के गोबर से बना गौमय हवन कुंड आत्मनिर्भर हो रही स्व सहायता समूह की महिलाएं




पनागर से सौरव मिश्रा की रिपोर्ट -

मध्यप्रदेश डे राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन ब्लॉक पनागर के अंतर्गत संचालित स्व सहायता समूह द्वारा आजीविका के लिए नित नए प्रयोग किए जा रहे हैं इसी श्रंखला में ग्राम पंचायत सुन्दरपुर के स्व सहायता समूह गार्गी, अदिति ,अपाला, अहिल्या, अनुसूईया और एकता समूह की लगभग 75 महिला सदस्यों के द्वारा गाय के गोबर से हवन कुंड पात्र का निर्माण किया जा रहा है इस हवन कुंड के निर्माण में वैज्ञानिक तथा धार्मिक दोनों तकनीकी का उपयोग किया जा रहा है निर्माण सामग्री में गोबर के साथ-साथ सुगंधित जड़ी बूटी जैसे मालकांगनी, बावुजी, बेलगिरी, हरड़ ,बहेड़ा वन तुलसी, कपूर कचरी, नीलगिरी ,गोंद, अजमोद अमलतास, गोरखमुंडी, चंदन चौरा सिंदूरी, पलाश, अर्जुन गिलोय और इसके अलावा पीपल के पत्ते, बेल के पत्ते, गेंदे के फूल, देसी कपूर अकोआ के पत्ते और तुलसी की मंजरी भी मिलाई जाती है निर्माण के उपरांत कुछ व्यवसायिक संस्थानों द्वारा इन्हें बाजार उपलब्ध कराया जाता है निर्माण से लेकर पैकिंग तक का समस्त कार्य महिलाओं के द्वारा किया जाता है गायत्री शक्तिपीठ परिवार द्वारा भी इन हवन कुंड को विक्रय किया जाता है सुंदरपुर ग्राम की आजीविका मिशन की नोडल रिशा पाण्डेय ने जानकारी देते हुए बताया कि समूह से जुड़ी हुई महिलाओं को इस प्रयोग से बहुत लाभ हो रहा है वह आर्थिक दृष्टि से आत्मनिर्भर हो रही हैं कुछ महिलाएं अब हवन कुंड के साथ-साथ गाय के गोबर से अन्य उत्पाद जैसे गौ कास्ढ ,संमिधा आदि भी बनाने का प्रयास कर रही है जिसे मिशन एवं जनपद पंचायत बनाकर द्वारा सहयोग दिया जा रहा है उन्होंने बताया कि इन महिलाओं द्वारा बनाए गए उत्पादों को जबलपुर शहर में लगने वाले मेलों प्रदर्शनी में भी प्रदर्शित किया जाता है ओजस्विनी मेला, हितकारिणी महिला महाविद्यालय स्वरोजगार प्रदर्शनी ,रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय प्रदर्शनी में इन्हें बहुत सराहा गया है उच्च शिक्षा भी ग्रहण कर रही समूह की महिलाएं रिशा पाण्डेय बताती हैं कि समूह की महिलाएं जो विद्यालय शिक्षा के बाद पढ़ाई छोड़ कर घर पर बैठी थी उनको भी मिशन के माध्यम से और मध्यप्रदेश शासन उच्च शिक्षा विभाग के द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत निशुल्क शिक्षा प्रदान की जा रही है समूह की महिलाओं के बच्चों को भी उच्च शिक्षा दिलवाई जा रही है जिसमें शासकीय अनुदान प्राप्त हितकारिणी महिला महाविद्यालय और खमरिया शासकीय महाविद्यालय,कौशल विकास केंद्र रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय का विशेष सहयोग प्राप्त होता है विगत दिनों मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पनागर श्री उदय राज सिंह द्वारा निरीक्षण कर इन समूह की महिलाओं द्वारा हवन कुंड के निर्माण की पूरी प्रक्रिया देखी गई उन्होंने इन सामग्रियों के प्रचार प्रसार के लिए महिलाओं को कहा साथ ही कुछ मशीनें भी शासन स्तर से उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया इस कार्य को संपादित कराने में जिला प्रबंधक कार्यालय जबलपुर और ब्लॉक कार्यालय पनागर का सहयोग प्राप्त हो रहा है यह महिलाएं वास्तव में आत्मनिर्भर भारत की ओर एक कदम आजीविका मिशन के साथ बढ़ा रही हैं जिसमें नोडल रिशा पाण्डेय एवं अरविंद शर्मा और उनकी टीम सदस्यों का भरपूर सहयोग प्राप्त हो रहा है