प्रशासन महिला समूह के लोन की किस्तें लॉक डाउन खुलने तक रुकवाए कोरोना काल संक्रमण बीमारी के चलते प्रशासन ने 10 मई तक लॉक डाउन लगा रखा है - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे औरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें....भारत के समस्‍त प्रदेशों में स्‍टेट ब्‍यूरों, संभाग ब्‍यूरों , जिला ब्‍यूरों, तहसील ब्‍यूरों और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

प्रशासन महिला समूह के लोन की किस्तें लॉक डाउन खुलने तक रुकवाए कोरोना काल संक्रमण बीमारी के चलते प्रशासन ने 10 मई तक लॉक डाउन लगा रखा है

जबलपुर से संतोष जैन व गजेंद्र सिंह की रिपोर्ट -

ऐसे में ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले व्यक्ति चाहे महिला हो या पुरुष उनके लिए रोजगार का संकट पैदा हो गया है l
सबसे ज्यादा परेशानी इन ग्रामीण गरीब लोगों को महिला समूह के लोन की किस्त चुकाने में आ रही है l
क्योंकि ग्रामीण लोग अभी अपने घरों में ही बैठे हुए हैं रोजगार का कोई भी साधन ना होने के कारण ग्रामीण समूह महिलाओं ने प्रशासन से गुहार लगाई है की जब तक लॉक डाउन ना खुल जाए तब तक इन महिला समूह की किस्ते लेने वाली कंपनियां *जैसे बंधन बैंक स्वतंत्र माइक्रो फाइनेंस स्पंदना बजाज फाइनेंस ग्रामीण कोटा,सोनाटा फाइनेंस एल एन टी फाइनेंस सम्हिता फाइनेंस * और भी कई प्रकार की कंपनियां जिन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में लोन बांट रखा है इन सभी कंपनियों के लिए प्रशासन आदेश निकाले की अभी महिलाओ के समूह के लोन की किस्ते लेने नही जाए क्योंकि अभी लॉकडाउन लगा हुआ है और घर का खर्च चलाने में भी महिलाओं को समस्याएं आ रही है ऐसे में समूह लोन के यह कर्मचारी महिलाओं से लोन के पैसे लेने के लिए चक्कर लगाते रहते हैं l
और महिलाओं द्वारा लोन किस्त नहीं भरने पर उससे ब्याज दर भी कहीं अधिक लिया जा रहा है l
जिसकी वजह से अधिकांश महिलाएं टेंशन में है ओर टेंशन में होने की वजह से परिवार में विवाद की स्थिति उत्पन्न हो रही है !
इसलिए प्रशासन से इन महिला समूह की महिलाओं का अनुरोध है की फिलहाल लॉकडाउन के समय इन कंपनियों को उनकी लोन की किस्ते लेने से रोका जाए