मंत्रियों-अफसरों की बैठक में CM के निर्देश: शादी में 10 लाेगों के शामिल होने की अनुमति दें - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें.....प्रदेश, संभाग, जिला, तहसील और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

मंत्रियों-अफसरों की बैठक में CM के निर्देश: शादी में 10 लाेगों के शामिल होने की अनुमति दें


भोपाल से संतोष जैन की रिपोर्ट -

मंत्रियों-अफसरों की बैठक में CM के निर्देश:
शादी में 10 लाेगों के शामिल होने की अनुमति दें, कोई नहीं मानता है तो सख्त एक्शन लिया जाए


भोपाल मुख्यमंत्री शिवराज िसंह चौहान ने अफसरों को निर्देश दिए हैं कि शादी में 10 से ज्यादा लोगों के शामिल होने की अनुमति नहीं दें। यदि कोई इस निर्देश को नहीं मानता है तो उसके खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाए। कोरोना संक्रमण को रोकने और लोगों की जिंदगी बचाने के लिए अब कड़ाई करना भी जरुरी है। बता दें कि भोपाल और इंदौर में जिला प्रशासन ने 30 अप्रैल तक शादियों पर पूरी तरह से रोक लगा रखी है।

मुख्य मंत्री ने रविवार देर शाम अफसरों और मंत्रियों के साथ वर्चुअल बैठक की। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि ऑक्सीजन की मांग बढ़ती जा रही है। ऐसे में ऑक्सीजन के अपव्यय को रोकना भी जरुरी है। उन्होंने कहा कि मेरा अधिकांश समय ऑक्सीजन की व्यवस्था करने में लगता है। ऑक्सीजन ऑडिट होना चाहिए। खंडवा जिले उदाहरण देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा ऑक्सीजन की फिजूलखर्ची ना हो, अफसरों के साथ मंत्रियों को इस पर ध्यान देना चाहिए।

मरीज को जरुरत ना होते हुए भी लगा देते हैं ऑक्सीजन

मुख्यमंत्री ने कहा कि कई बार अस्पताल में मरीजों को जितनी जरूरत है उससे कहीं ज्यादा ऑक्सीजन लगा देते हैं। लो फ्लो में काम चल सकता है, तब भी हाई फ्लो दे दिया। इसलिए ऑकसीजन ऑडिट जरुरी है। उन्होंने स्टेप डाउन योजना पर काम करने के लिए भी कहा है। यानी अगर व्यक्ति आईसीयू में ठीक हो जाता है तो ऑक्सीजन बेड पर उसे ले आएं। अगर कोई मरीज ऑक्सीजन बेड पर है और उसकी स्थिति में सुधार है तो उसे हाई फ्लो नहीं लो फ्लो ऑक्सीजन दी जाना चाहिए।

पंचायत भवनों को बनाए क्वारेंटीन सेंटर

मुख्यमंत्री ने कहा कि पंचायत भवन हो,चाहे स्कूल हो, अभी यह सब बंद हैं। यहां क्चारेंटीन सेंटर बनाया जाए। यदि गांव में कोई पॉजिटिव मरीज मिलता है तो उसे तत्काल यहां शिफ्ट किया जाए ताकि उसके परिवार में अन्य सदस्य संक्रमित होने से बचाए जा सकें।



सरकार का फोकस




1- पॉजिटिविटी रेट कम करना।

2- माइक्रो कंटेंटमेंट जोन।

3- कोविड केयर सेंटर।

4- वैक्सीनेशन।