जनता कर्फ्यू है ऐसी व्यवस्था जिससे लोगों का काम धंधा व रोज़ी रोटी चलती रहे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें.....प्रदेश, संभाग, जिला, तहसील और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

जनता कर्फ्यू है ऐसी व्यवस्था जिससे लोगों का काम धंधा व रोज़ी रोटी चलती रहे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान



भोपाल से सुजीत श्रीवास्तव रिपोर्ट -




मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने आज मंत्रालय में वीसी के माध्यम से सभी जिलों में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग के साथ समीक्षा की। इस समीक्षा बैठक में सभी जिलों से प्रभारी मंत्रीगण वीसी के माध्यम से सम्मिलित हुए। प्रदेश में लॉक डाउन नहीं जनता कर्फ्यू है। ऐसी व्यवस्था की जायेगी, जिससे लोगों का काम धंधा व रोज़ी रोटी चलती रहे। गांवों में पंचायतें एवं शहरों में रहवासी संघ, मोहल्ला समितियां स्वयं कन्टेनमेंट क्षेत्र बनाएं। अनावश्यक रूप से लोग घर से बाहर न निकलें। एक-दो व्यक्ति बाहर जाकर सभी के लिए आवश्यकता की वस्तुएं ले आएं।




स्वप्रेरणा से इस प्रकार का संयम रखकर हम शीघ्र कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण कर सकते हैं। जन जागरण से ही संक्रमण की चेन टूटेगी। सभी जिलों में कोरोना के इलाज के लिए पर्याप्त बिस्तर, ऑक्सीजन, रेडमिसिविर इंजेक्शन, दवाओं आदि की व्यवस्था है। कोरोना संबंधी व्यवस्थाओं में पैसे की कमी नहीं आने दी जाएगी। सभी जिलों में अस्पतालों में अच्छे से अच्छा प्रबंधन करने का प्रयास किया जा रहा है। बड़े अस्पतालों में लिक्विड ऑक्सीजन संयंत्र तथा एयर सेपरेशन यूनिट तथा हर जिले में सिटी स्कैन मशीन की व्यवस्था की जा रही है।




जिलेवार समीक्षा में पाया गया कि इंदौर में (1552) एवं भोपाल में (1456) सर्वाधिक नए प्रकरण आए हैं। ग्वालियर में 576, जबलपुर में 552, उज्जैन में 317, बड़वानी में 237, शाजापुर में 193, सागर में 188, बैतूल में 173, झाबुआ में 173 में 130 नए प्रकरण आए हैं। प्रदेश सरकार व्यवस्थाओं में कोई कसर नहीं छोड़ेगी और आपसे आग्रह है कि आप गाइडलाइंस का स्वयं पालन करें और दूसरों को इसके लिए प्रेरित करें। सरकार और समाज मिलकर ही इस चुनौती को समाप्त कर सकेंगे।