मध्य प्रदेश नाज़ुक हालातों में टूटती सांसों को चाहिए ऑक्सीजन का सहारा - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे औरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें....भारत के समस्‍त प्रदेशों में स्‍टेट ब्‍यूरों, संभाग ब्‍यूरों , जिला ब्‍यूरों, तहसील ब्‍यूरों और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है


मध्य प्रदेश नाज़ुक हालातों में टूटती सांसों को चाहिए ऑक्सीजन का सहारा



भोपाल से संतोष जैन व अंकित श्रीवास्तव की रिपोर्ट  -

मध्य प्रदेश नाज़ुक हालातों में टूटती सांसों को चाहिए ऑक्सीजन का सहारा
कुछ अस्पतालों की कारगुजारियों से पूरा कुनबा बदनाम मर गई इंसानियत
भोपाल में आधा कमरा पूरा चार्ज इंदौर में हो रहा 12 घंटे का एक दिन
ऊपर नीचे होती सांसे निजी अस्पतालों की लूट
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बोले सरकार डंडे के दम पर कर्फ्यू लगाने के पक्ष में नहीं


यदि पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के तर्क को आधार मानलिया जाए तो प्रदेश में आक्सीजन घोटाले से इन्कार नहीं किया जा सकता?

जानकारी के लिए वता दे की पूर्व स्वास्थ्य मंत्री ने शोसल मीडिया के माध्यम से इस बात को उठाया है कि

महाराष्ट्र सरकार ने पचास हजार मरीजों पर मात्र 457 टन आक्सीजन खर्च की

जबकि मध्य प्रदेश सरकार ने 5000 मरीजों पर732टन आक्सीजन खर्च की ऐ कैसे खर्च कर दी?

स्वत: स्पष्ट है कि महाराष्ट्र सरकार ने मध्यप्रदेश की तुलना ने 45 हज़ार अधिक मरीजों का इलाज। किया ओर आक्सीजन भी बचा ली

जबकि मध्य प्रदेश ने पांच हजार मरीजों के इलाज में इतनी आक्सीजन खर्च कर दी जो कि

महाराष्ट्र सरकार की तुलना ज्यादा है

बड़ा सवाल यहहै कुछ भक्त लोग ऐ तर्क दे सकते है कि अजय विश्नोई को मंत्री नहीं बनाया है इसलिए अजय विश्नोई विधायक सबाल खड़े कर रहे जानकारी के लिए वतादे की ऐसे अनेक विधायक हैं जो मंत्री नहीं बन पाए इसके बाद भी चुप है!