कोरोना काल मै राजश्री गुटके की जमाखोरी - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे औरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें....भारत के समस्‍त प्रदेशों में स्‍टेट ब्‍यूरों, संभाग ब्‍यूरों , जिला ब्‍यूरों, तहसील ब्‍यूरों और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है


कोरोना काल मै राजश्री गुटके की जमाखोरी



दमोह से वीरेंद्र सिंघई की रिपोर्ट  -

कोरोना काल मै राजश्री गुटके की जमाखोरी
गुटखे का स्टॉक जमाकर बढ़ा दिए दाम
18 हजार की झाल के दाम हुए 26 हजार

छतरपुर। कोरोना कफ्र्यू शुरु होते ही गुटखे का कारोबार करने वाले लोगों ने कालाबाजारी और माल को स्टॉक करने का खेल शुरू कर दिया है। व्यापारियों ने गुटखे का स्टॉम जमा कर लिया और अब कोरोना कफ्यू का लाभ उठाकर इनके दाम दोगुने कर दिए हैं। छोटी-छोटी किराना दुकानें संचालित करने वाले दुकानदारों ने बताया है कि एजेंसी संचालक उन्हें दो गुने दामों पर गुटखा दे रहे हैं।

एक छोटे दुकानदार ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि बसारी दरवाजा क्षेत्र में दुकान संचालित करने वाले व्यापारी जीतेन्द्र अग्रवाल से जब उन्होंने फोन पर 18 हजार रुपए की कीमत वाली झाल के दाम पूछे तो जीतेन्द्र अग्रवाल ने बताया कि झाल 26 हजार रुपए में मिलेगी। इस बातचीत का एक ऑडियो पर शनिवार को सोशल मीडिया पर वायरल होता रहा जो लोगो में चर्चा का विषय बना रहा। ज्ञात हो कि पिछले लॉकडाउन में उक्त व्यापारी जीतेन्द्र के यहां प्रशासन ने छापामार कार्यवाही भी की थी लेकिन उसके बावजूद भी वे कालाबाजारी करने से बाज नहीं आ रहे हैं। दुकानदारों का कहना है कि पिछले साल लॉकडाउन के दौरान 20 रुपए कीमत का गुटखा 100 से 125 रुपए तक में बिका था और अब एक बार फिर कोरोना कफ्र्यू लागू किया है जिसके चलते एजेंसी संचालकों ने गुटखे का स्टॉक करना शुरु कर दिया है ताकि आने वाले समय में वे इस गुटखे को महंगे दामों पर बेच कर मुनाफा कमा सकें।