डॉ गढ़पाले के 24 घंटे के समन्वय से जिले की अस्पतालों को पहुंचाई जा रही है जीवन रक्षक ऑक्सीजन - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें.....प्रदेश, संभाग, जिला, तहसील और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

डॉ गढ़पाले के 24 घंटे के समन्वय से जिले की अस्पतालों को पहुंचाई जा रही है जीवन रक्षक ऑक्सीजन



सागर से पीयूष जैन की रिपोर्ट -

प्रबंधन की डिग्री का सही उपयोग कर ऑक्सीजन की बिगड़ती व्यवस्था का डॉक्टर गढ़पाले द्वारा किया गया उचित प्रबंध


जीवन रक्षक कही जाने वाली ऑक्सीजन कि जब संभाग सहित जिले में कमी नजर आ रही थी तभी कमिश्नर श्री मुकेश शुक्ला एवं कलेक्टर श्री दीपक सिंह द्वारा बिजनेस मैनेजमेंट की डिग्री से पीएचडी करने वाले जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री इच्छित गढ़पाले को ऑक्सीजन की सुचारू व्यवस्था बनाने के लिए नियुक्त किया गया।

डॉ इच्छित गढ़पाले द्वारा ऑक्सीजन सप्लाई के आदेश के तत्काल पश्चात ही अपने प्रबंधन एवं आपसी समन्वय से 24 घंटे कार्य करते हुए संभाग सहित जिले में अस्पतालों में ऑक्सीजन की व्यवस्था को सुचारू रूप दिया गया।

डॉ इच्छित गढ़पाले द्वारा जिले की समस्त अस्पतालों में ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली एजेंसियों से समन्वय कर ना केवल उनसे समन्वय किया बल्कि औद्योगिक क्षेत्र चना टोरिया में गौरी ऑक्सीजन प्लांट में 24 घंटे उपस्थित रहकर समस्त अस्पतालों को ऑक्सीजन मुहैया कराई ।डॉ गढ़पाले द्वारा जिले के साथ-साथ संभाग के अन्य जिलों में जहां ऑक्सीजन की कमी बताई जा रही थी वहां उन्होंने तत्काल मध्यप्रदेश के साथ-साथ देश के अन्य शहरों से समन्वय स्थापित कर ऑक्सीजन की आपूर्ति मांग के हिसाब से पूर्ति की ।

डॉक्टर गढ़पाले द्वारा ऑक्सीजन की मांग के अनुसार आपूर्ति हेतु मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के आई नाक्स ऑक्सीजन प्लांट ,गुरु कार्बाईड ऑक्सीजन प्लांट पन्ना ,रामवती ऑक्सीजन प्लांट छतरपुर , राहुलकेला एवं लखनऊ की ऑक्सीजन प्लांट से समन्वय स्थापित कर ना केवल वहां से ऑक्सीजन के टैंकरों के माध्यम से जिले के साथ संभाग की ऑक्सीजन आपूर्ति संधारित की। बल्कि छतरपुर एवं पन्ना में खाली ऑक्सीजन सिलेंडर को पुलिस की अभिरक्षा में भेज कर उनको वापस सागर बुलाकर अस्पतालों में भेजा गया ।

डॉ गढ़पाले द्वारा बताया गया कि शीघ्र ही बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज एवं जिला चिकित्सालय तिली में एक एक नया प्लांट लगाया जा रहा है जिससे सीधे सेंट्रल लाइन से सप्लाई की जाएगी।

डॉ गढ़पाले ने समस्त अस्पताल प्रबंधकों एवं घरों पर उपयोग करने वाले व्यक्तियों से अपील की है कि आवश्यकता अनुसार ही उपयोग करें ।

उन्होंने यह भी बताया कि किसी भी अपवाह में ना आते हुए निर्धारित कीमत पर ही ऑक्सीजन सिलेंडर संबंधित प्लांटों से प्राप्त किए जा सकते हैं ।

डॉ गढ़पाले ने बताया कि कमिश्नर श्री मुकेश शुक्ला के निर्देश पर सागर कलेक्टर श्री दीपक सिंह सहित संभाग के अन्य जिलों के कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक श्री अतुल सिंह द्वारा तत्काल उचित मार्गदर्शन करते हुए पुलिस एवं अन्य व्यवस्थाओं को मुहैया कराया गया। जिसके माध्यम से आज सागर जिले सहित संभाग के अन्य जिलों में ऑक्सीजन की कमी नहीं है।

डॉ गढ़पाले ने बताया कि उच्चाधिकारियों के मार्गदर्शन एवं ऑक्सीजन प्लांट संचालकों के समन्वय एवं प्रबंधन से ही आज सागर में ऑक्सीजन की कीमतों में भी भारी कमी कराई गई है ।उन्होंने बताया कि अस्पतालों को सप्लाई की जाने वाली ऑक्सीजन में रुपए 200 एवं घरों में व्यक्तिगत रूप से उपयोग करने वाले व्यक्तियों को भी रुपए 200 की कमी प्रति सिलेंडर की गई है। उन्होंने बताया कि किसी भी औद्योगिक संस्थान में कोरोना संक्रमण काल में ऑक्सीजन का उपयोग किया जाएगा तो उसके खिलाफ पुलिस कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।

डॉ गढ़पाले ने बताया कि ऑक्सीजन सप्लाई के सुचारू संचालन के लिए कलेक्टर श्री दीपक सिंह के द्वारा मेरे सहयोग के लिए बंडा तहसीलदार श्री सतीश वर्मा जिला पंचायत की परियोजना अधिकारी श्री उदय गौतम को निर्देशित किया गया जिन्होंने मेरे साथ 24 घंटे कार्य करके यह ऑक्सीजन सप्लाई का कार्य सुनिश्चित कराया गया।