पोर्टल पर शत-प्रतिषत करें मैपिंग - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे औरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें....भारत के समस्‍त प्रदेशों में स्‍टेट ब्‍यूरों, संभाग ब्‍यूरों , जिला ब्‍यूरों, तहसील ब्‍यूरों और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

पोर्टल पर शत-प्रतिषत करें मैपिंग


 उपार्जन के पहले किसानों की पोर्टल पर शत-प्रतिषत करें मैपिंग : कलेक्टर श्री सिंह

_

समस्त उपार्जन केंद्रों पर बारदाने की उपलब्धता सुनिश्चित करें

_

जिला उपार्जन समिति की बैठक संपन्न

 _

उपार्जन के पहले किसानों की पोर्टल पर शत-प्रतिशत मैपिंग करें एवं समस्त उपार्जन केंद्रों पर बारदाने की उपलब्धता सुनिश्चित करें। उपार्जन केंद्रों  पर आवश्यक मूलभूत सुविधाएं सुनिश्चित कराएं। उक्त निर्देश कलेक्टर से दीपक सिंह ने रबी उपार्जन हेतु  जिला उपार्जन समिति की वर्चुअल बैठक में मंगलवार को दिए। इस अवसर पर उप पंजीयक सहकारिता श्री पीआर कावड़कर, जिला खाद्य अधिकारी श्री राजेंद्र बाइकर, जिला विपणन अधिकारी श्री प्रकाश परोहा, केंद्रीय सहकारी बैंक मैनेजर श्री डीके राय, आजीविका मिशन के परियोजना अधिकारी श्री हरीश दुबे सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

 कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने रबी उपार्जन की समीक्षा बैठक में निर्देश दिए कि 22 मार्च से प्रारंभ होने वाले रबी उपार्जन की समस्त  आवश्यक मूलभूत सुविधाएं उपार्जन केंद्रों पर उपलब्ध कराएं।  कलेक्टर श्री सिंह ने निर्देश दिए कि समस्त उपार्जन केंद्रों पर पर्याप्त मात्रा में वरदाना की उपलब्धता सुनिश्चित कराएं।

कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए शासन के निर्देशानुसार 29 स्व-सहायता समूह को प्रारंभिक तौर पर उपार्जन केंद्र आवंटित किए गए हैं। जो 15 मार्च से उपार्जन कार्य प्रारंभ  करेंगे। उन्होंने कहा कि यदि और भी स्व सहायता समूह के आवेदन आते हैं तो परीक्षण उपरांत उनको उपार्जन केंद्र आवंटित किए जाएंगे।

 उन्होंने बताया कि चना, मसूर और सरसों की खरीदी के लिए कुल 45 उपार्जन केंद्रों को अंतिम रूप दिया गया है और इसी प्रकार रबी उपार्जन में गेहूं की खरीदी के लिए 121 उपार्जन केंद्र को अंतिम रूप दिया गया है एवं  चना मसूर सरसों के लिए 45 खरीदी केंद्र बनाए गए हैं। जिनमें गेहूं खरीदी के लिए 29 उपार्जन केंद्र स्व सहायता समूह के माध्यम से संचालित होंगे।