मेडिकल सेक्स स्कैंडल किस्मत के बदले अस्मत का आरोपी फरार क्यों नहीं किया गिरफ्तार जिला अदालत ने गढा टीआई को हाजिर होकर स्पष्टीकरण देने को कहा - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे औरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें....भारत के समस्‍त प्रदेशों में स्‍टेट ब्‍यूरों, संभाग ब्‍यूरों , जिला ब्‍यूरों, तहसील ब्‍यूरों और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

मेडिकल सेक्स स्कैंडल किस्मत के बदले अस्मत का आरोपी फरार क्यों नहीं किया गिरफ्तार जिला अदालत ने गढा टीआई को हाजिर होकर स्पष्टीकरण देने को कहा

जबलपुर  (संतोष जैन की रिपोर्ट ) - बहुचर्चित मेडिकल सेक्स स्कैंडल का एक आरोपी संजय यादव लंबे अरसे से फरार है आरोपी को पकड़ना तो दूर अदालत में गिरफ्तारी वारंट की तामीली रिपोर्ट तक पेश नहीं की गई एससी एसटी एक्ट के विशेष न्यायाधीश एस सी राय की अदालत ने गढा पुलिस थाने के टीआई को 20 अप्रैल को हाजिर होकर यह स्पष्टीकरण देने को कहा है 

यह है मामला

 मेडिकल छात्रा की ओर से किस्मत के बदले अस्मत मांगे जाने की शिकायत के बाद मामला दर्ज किया गया था मामले की जांच का काम क्राइम विभाग को सौंपा गया था जांच पूरी होने के बाद मामले को गढ़ा थाना और sc-st की धारा होने के कारण  एजे के थाने के सुपुर्द कर दिया दिया गया था मामले में रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय के लिपिक संजय यादव की आरोपी राजू खान से नजदीकी और उसके द्वारा परीक्षा कापियो की हेराफेरी के प्रमाण मिलने पर उसके विरुद्ध मामला दर्ज किया गया था संजय पर आरोप था कि उसने अपने रिश्ते के भाइयों के साथ मिलकर मेडिकल छात्रों से 20 से ₹30000 लेकर परीक्षा कॉपियों को बदला था 2011 में दर्ज हुए मेडिकल सेक्स स्कैंडल मामले में मुख्य आरोपी राजू खान संजय यादव समेत एक दर्जन से अधिक आरोपियों के विरुद्ध धारा 420 आदि के अलावा एससी एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था 

 हाईकोर्ट का है निर्देश


 पेशियों पर उपस्थित ना होने के चलते जिला अदालत ने आरोपी संजय यादव के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया था इसी वारंट के संबंध में 12 मार्च को सुनवाई के दौरान कोई जानकारी नहीं दिए जाने पर कोर्ट ने यह शक्ति दर्शाई कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए कहा कि 5 वर्ष से पुराने प्रकरणों को जल्द निराकरण करना है टीआई हाजिर होकर स्पष्टीकरण पेश करें