अर्थ से ज्यादा परमार्थ को दिया महत्व पिसंहारी मडिया मै प्रमाण सागर के प्रवचन - Aaj Tak News

Breaking

आज तक 24x7 वेब न्यूज़ व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे औरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406763885 पर व्हाट्सएप्प करें....भारत के समस्‍त प्रदेशों में स्‍टेट ब्‍यूरों, संभाग ब्‍यूरों , जिला ब्‍यूरों, तहसील ब्‍यूरों और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

अर्थ से ज्यादा परमार्थ को दिया महत्व पिसंहारी मडिया मै प्रमाण सागर के प्रवचन


जबलपुर से (संतोष जैन की रिपोर्ट) -  धर्म श्रद्धा और भक्ति समर्पण की देवी मां पिसंहारी की आलौकिक छटा है पिसंहारी की मडिया  पूरे भारत का आदर्श जैन तीर्थ है यह भारतीय संस्कृति की विशेषता है जिसमें अर्थ से ज्यादा परमाथ को महत्व दिया है पिसनहारी का संग्रहित धन तो चोरों ने चुरा लिया पर श्रद्धा भक्ति ने मंदिर के प्रण को साकार किया और चक्की के पाठ से मंदिर का कलश बना दिया यह कलश आज भी पिसनंहारी मडिया क्षेत्र में दाई के मंदिर के ऊपर 650 वर्षों से श्रम की कहानी गुंजायमान कर रहे हैं उक्त आशय के विचार मुनि प्रमाण सागर जी ने पिसंहारी मडिया में प्रवचन के दौरान व्यक्त किए